Monday, 9 December 2019

दक्षिण अफ्रीका की ज़ोज़ीबिनी ट्यूंजी बनी मिस यूनिवर्स, जानें उनके बारे में

दक्षिण अफ्रीका (south africa) की 25 साल ज़ोज़ीबिनी ट्यूंजी (Zozibini Tunzi) इस साल की मिस यूनिवर्स (miss universe) बनी हैं। ज़ोज़ीबिनी ट्यूंजी (Zozibini Tunzi) ने 90 देशों की सुंदरियों को हराकर मिस यूनिवर्स (miss universe) का क्राउन अपने नाम किया है। मिस यूनिवर्स (Zozibini Tunzi) कॉम्पीटिशन अमेरिका के अटलांटा में रविवार शाम को आयोजित किया गया था।
न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (9 दिसंबर): दक्षिण अफ्रीका (south africa) की 25 साल ज़ोज़ीबिनी ट्यूंजी (Zozibini Tunzi) इस साल की मिस यूनिवर्स (miss universe) बनी हैं। ज़ोज़ीबिनी ट्यूंजी (Zozibini Tunzi) ने 90 देशों की सुंदरियों को हराकर मिस यूनिवर्स (miss universe) का क्राउन अपने नाम किया है। मिस यूनिवर्स (Zozibini Tunzi) कॉम्पीटिशन अमेरिका के अटलांटा में रविवार शाम को आयोजित किया गया था। मिस मैक्‍सिको ने दूसरे स्थान पर रहीं। साउथ अफ्रीका, मैक्सिको, कोलंबिया, थाइलैंड और प्‍यूरटोरिको की प्रतिभागियों ने टॉप 5 में जगह हासिल की। भारत की वर्तिका सिंह टॉप 10 में भी जगह नहीं बना सकीं। साल 2018 में मिस यूनिवर्स बनी फिलीपींस की कैटोरिना ग्रे ने जोजिबिनी टूंजी की ताजपोशी की।
मिली जानकारी के मुताबिक़, ज़ोज़ीबिनी ट्यूंजी (Zozibini Tunzi) मूल रूप से साउथ अफ्रीका (south africa) के टोस्‍लो की निवासी हैं। उन्होंने समाजसेवा और सुधार के लिए कई उल्लेखनीय काम किए हैं। उन्होंने लैगिक भेदभाव और लैंगिक हिंसा के खिलाफ भी काम किया है। सामाजिक सुधर हेतु सोशल मीडिया कैंपेन के तहत उन्होंने समाज की रूढ़िवादी जड़ता को मिटाने के लिए किया है।
ज़ोज़ीबिनी ट्यूंजी (Zozibini Tunzi) को नेचर (प्रकृति) से भी काफी लगाव है। इसके साथ भी सेल्फ लव यानी से खुद से प्यार करने में यकीन रखती हैं और आसपास के लोगों महिलाओं को भी यही सन्देश देना चाहती हैं कि खुद से प्रेम करो। बता दें कि ज़ोज़ीबिनी ट्यूंजी (Zozibini Tunzi) ने मिस साउथ अफ्रीका का क्राउन हासिल करने से पहले केपटाउन में पब्लिक रिलेशंस डिपार्टमेंट के साथ एक ग्रेजुएट इंटर्न की तरह काम किया है।
ज़ोज़ीबिनी ट्यूंजी अपनी तीन बहनों के साथ टोस्लो में रहती हैं। जोजिबिनी टूंजी ने बताया कि उनके रोल मॉडल उनके माता पिता हैं। उन्होंने बताया कि मेरी मां ने मुझे दयालु और विनम्र होने की अहमियत समझाई है और लोगों के प्रति हेल्प करने का रवैया अपनाने की सलाह दी है। मेरे पिता ने मुझे सिखाया है कि शिक्षा, कड़ी मेहनत और अनुशासन कितना ज्यादा मायने रखता है।