Monday, 20 January 2020

4 साल से टीम इंडिया से बाहर चल रहे स्‍टार ने जड़ा तिहरा शतक, 21 साल बाद हुआ ऐसा कमाल


नई दिल्‍ली. भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) के पूर्व सितारे और बंगाल के बल्‍लेबाज मनोज तिवारी (Manoj Tiwary) ने सोमवार को रणजी ट्रॉफी (Ranji Trophy) में तिहरा शतक जड़ दिया. बंगाल के लिए 21 साल बाद किसी बल्‍लेबाज ने रणजी ट्रॉफी में तिहरा शतक लगाया है. उन्‍होंने ग्रुप ए के मैच में हैदराबाद के खिलाफ नाबाद 303 रन की पारी खेली. कोलकाता के कल्‍याणी स्‍टेडियम में तिवारी की विशाल पारी के बूते बंगाल ने पहली पारी 7 विकेट पर 635 रन पर घोषित की. मनोज तिवारी ने 414 गेंदों का सामना किया और 30 चौके व 5 छक्‍के उड़ाए. वह रणजी ट्रॉफी में तिहरा शतक लगाने वाले बंगाल के दूसरे बल्‍लेबाज हैं. उनसे पहले 1998 में असम के खिलाफ देवांग गांधी ने 323 रन की पारी खेली थी.

रणजी ट्रॉफी 2019-20 का पहला तिहरा शतक मनोज के नाम
उन्होंने दस घंटे 30 मिनट तक क्रीज पर डटकर बल्लेबाजी की. तिवारी के आखिरी 50 रन सिर्फ 37 गेंदों में बने. रणजी ट्रॉफी सीजन 2019-20 का पहला तिहरा शतक मनोज तिवारी के नाम दर्ज हुआ है. इस सीजन में अब तक कई दोहरे शतक लग चुके हैं लेकिन कोई भी 300 रन तक नहीं पहुंच पाया था. मनोज तिवारी को जीवनदान भी मिला तब रवि किरण ने उनका कैच छोड़ दिया.

टीम इंडिया में आखिरी बार 4 साल पहले खेले थे मनोज तिवारी
भारत के लिए आखिरी बार 2015 में खेलने वाले तिवारी पिछले महीने आईपीएल नीलामी में बिक नहीं सके थे. तिवारी विवाद के घेरे मे आ गए थे जब उन्होंने राष्ट्रीय चयनकर्ता देवांग गांधी को बंगाल टीम के ड्रेसिंग रूम में प्रवेश करने से रोका. सत्र की शुरुआत में उन्हें कप्तानी से हटाकर अभिमन्यु ईश्वरन को नया कप्तान बनाया गया.

हैदराबाद मुश्किल में फंसातिवारी की बेहतरीन पारी के बाद तेज गेंदबाज आकाशदीप और मुकेश कुमार ने क्रमश: तीन और दो विकेट लेकर हैदराबाद के पहली पारी के पांच विकेट 83 रन पर निकाल दिए. बंगाल के लिए नौवें नंबर के बल्लेबाज अर्नब नंदी 83 गेंद में 65 रन बनाकर नाबाद रहे. उन्होंने तिवारी के साथ 159 रन की अटूट साझेदारी की.

दिल्‍ली ने पहली पारी की बढ़त गंवाई
वहीं दिल्ली में खेले जा रहे मैच में आदित्य ठाकरे के सात विकेट की मदद से विदर्भ ने दूसरे दिन मेजबान दिल्ली को पहली पारी में 163 रन पर समेटकर 16 रन की बढ़त ले ली. विदर्भ के पहली पारी के 179 रन के जवाब में दिल्ली ने चार विकेट पर 41 रन से आगे खेलना शुरू किया. उसके लिए अनुज रावत ने 37 और सिमरजीत सिंह ने 23 रन बनाए जबकि छह बल्लेबाज दोहरे अंक तक भी नहीं पहुंच सके. ठाकरे ने 17.1 ओवर में 55 रन देकर सात विकेट लिए.