Thursday, 4 June 2020

गर्भवती हथिनी मौत मामलाः आरोपियों की धड़-पकड़ में एक व्यक्ति से हुई पूछताछ


केरल (Kerala) में एक गर्भवती हथिनी को अनानास में विस्फोटक खिलाने के मामले में सोशल मीडिया पर काफी विरोध देखने को मिल रहा है. लोग हाथिनी की हत्या के आरोपियों को गिरफ्तार करने और उन्हें सजा देने की मांग कर रहे हैं. इस बीच गुरुवार को मनार्कड फॉरेस्ट टीम ने एक व्यक्ति को हिरासत में लिया है. इस व्यक्ति से पूछताछ की जा रही है. हालांकि यह शख्स कौन है इस बारे में अभी कोई जानकारी नहीं मिली है.

वन विभाग के प्रधान मुख्य संरक्षक और मुख्य वन्यजीव वार्डन सुरेंद्र कुमार ने न्यूज 18  .से बातचीत में कहा, अनानास में पटाखे भरकर खिलाना हथिनी की मौत की मुख्य वजह में से एक हो सकती है. हालांकि अभी तक हमारे पास इसका कोई सबूत नहीं है. मुख्य वन्यजीव वार्डन ने कहा कि प्रारंभिक पोस्टमार्टम रिपोर्ट से पता चला है कि एक विस्फोट से हाथी का मुंह घायल हो गया था. "अब किस तरह का विस्फोटक है चाहे वह अनानास, फलों या किसी अन्य तरीके से लपेटा गया था, यह पूरी जानकारी पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही हमारे सामने आएगी.
केंद्रीय मंत्री ने कही थी ये बात
केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने गुरुवार को कहा कि केंद्र सरकार ने केरल के मल्लपुरम में एक हाथी की हत्या के मामले पर गंभीरता दिखाई है. हम सही तरीके से जांच करने और अपराधियों को पकड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे. हाथियों को पटाखा खिलाना और मारना भारतीय संस्कृति नहीं है. जिन लोगों ने अनानास में विस्फोटक रखकर हाथी को खिलाया था, उनकी धरपकड़ की कोशिश तेज कर दी गई है.
क्या है पूरा मामला
केरल के मल्लपुरम से इंसानियत को झकझोर देने वाली तस्वीर सामने आई थी. यहां एक गर्भवती मादा हथिनी खाने की तलाश में जंगल के पास वाले गांव पहुंच गई, लेकिन वहां शरारती तत्वों ने अनन्नास में पटाखे भरकर हथिनी को खिला दिया, जिससे उसका मुंह और जबड़े बुरी तरह से जख्मी हो गए.
वन विभाग के एक अधिकारी के मुताबिक, विस्फोटक से उसके दांत भी टूट गए थे. इसके बाद भी मादा हथिनी ने गांव में किसी को नुकसान नहीं पहुंचाया और वो वेलियार नदी पहुंच गई, जहां तीन दिन तक पानी में मुंह डाले खड़ी रही. बाद में उसकी और गर्भ में पल रहे बच्चे की मौत हो गई.