Tuesday, 7 April 2020

इंसानों के बाद अब जानवरों को कोरोना, हाई अलर्ट पर देशभर के चिड़ियाघर;इन जानवरों की खासकर हो रही है निगरानी



लखनऊ, शैलेश अरोड़ा। पूरे विश्व के लिए मुसीबत बन चुके कोरोना वायरस (Coronavirus) की चपेट में अब इंसानों के साथ-साथ जानवर भी आने लगे हैं। इसे देखते हुए देशभर के चिड़ियाघरों (India Zoo) को हाई अलर्ट पर रहने को कहा गया है। इसके लिए केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण ने देशभर के चिड़ियाघर को निर्देश जारी किये हैं।

टाइगर को कोरोना के बाद चिड़ियाघरों में 24 घंटे जानवरों की निगरानी:

न्यूयॉर्क के ब्रॉन्क्स चिड़ियाघर में एक टाइगर (New York Tiger Coronavirus) में COVID-19 की पुष्टि होने के बाद अब बाकी देशों की भी चिंता बढ़ गई है। भारत में इसके लिए सभी चिड़ियाघरों को निर्देश जारी किए गए हैं। केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण ने जीव जंतुओं की 24 घंटे निगरानी के साथ उनके असामान्य व्यवहार और लक्षणों पर ध्यान देने को कहा है। आदेश के बाद से ही 24 घंटे CCTV कैमरों की मदद से जानवरों की निगरानी की जा रही है।


इन जानवरों को आइसोलेट और क्वारंटाइन करने के निर्देश:

प्राधिकरण ने निर्देश दिए हैं कि चिड़ियाघर में बीमार पशुओं को आइसोलेट और क्वारंटाइन किया जाए। इसके लिए चिड़ियाघर में आइसोलेशन और क्वारंटाइन सेंटर की व्यवस्था के लिए कहा गया है। प्राधिकरण ने मांसाहारी जानवरों पर विशेष ध्यान देने को कहा है। हाउस कीपिंग स्टाफ और पशुओं के पास जाने वाले अन्य लोगों को पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट (PPE) किट का इस्तेमाल करने के निर्देश दिए गए हैं। जीव- जंतुओं को भोजन देते समय कम से कम संपर्क में आने की हिदायत दी गई है।


आदेश के बाद लखनऊ चिड़ियाघर में ये खास तैयारी:

इस आदेश के बाद राजधानी लखनऊ का चिड़ियाघर (Lucknow Z00) भी हाई अलर्ट पर है। लखनऊ चिड़ियाघर के निदेशक आरके सिंह ने कहा कि पूरी सतर्कता बरती जा रही है। सभी जीव-जंतुओं, पक्षियों की CCTV से निगरानी हो रही है। हाउस कीपिंग स्टाफ को और अधिक सतर्कता से काम करने के निर्देश दिए गए हैं। लखनऊ चिड़ियाघर में 103 प्रजातियों के 1000 से अधिक जीव-जंतु और पक्षी हैं। इनमें करीब 45 प्रजातियां मांसाहारी हैं।

जानवरों के सैंपल का होगा COVID-19 टेस्ट:

केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण ने कहा है कि जानवरों में जो भी संदिग्ध केस लगें, उनके सैंपल COVID-19 की टेस्टिंग के लिए एनिमल हेल्थ इंस्टिट्यूट्स को भेजे जाएं। सैंपल भेजते समय ICMR की गाइडलाइन्स के अनुसार पूरी सावधानी बरतने को कहा गया है।