Saturday, 25 April 2020

दिल्ली: तब्लीगी जमात से जुड़े 816 लोगों की हुई पहचान, मेडिकल टेस्ट के बाद क्वॉरंटीन किया जा सकता है

दिल्ली: तब्लीगी जमात से जुड़े 816 लोगों की हुई पहचान, मेडिकल टेस्ट के बाद क्वॉरंटीन किया जा सकता है
नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली में तब्लीगी जमात से जुड़े 816 लोगों की पहचान की गई है और इन सभी का मेडिकल टेस्ट कराया जा रहा है. साथ ही जमात के जो लोग पुलिसकर्मियों या स्वास्थ्य कर्मियों पर थूक रहे हैं उनके खिलाफ भी दिल्ली पुलिस सक्षम धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज करेगी.

निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी जमात का मामला सामने आने के बाद दिल्ली पुलिस ने इस मामले में ऐसे लोगों की तलाश शुरू कर दी थी जो इन दिनों जमात के संपर्क में आए थे. दिल्ली पुलिस ने इस बारे में जमात के कई लोगों से पूछताछ की और उनके दस्तावेज आदि भी चेक किए.

इस आधार पर दिल्ली पुलिस की अनेक टीमों ने राजधानी के अलग-अलग स्थानों से कुल 816 ऐसे लोगों की पहचान की है जो इन दिनों जमात के संपर्क में आए थे. दिल्ली पुलिस के एक आला अधिकारी ने बताया कि तब्लीगी जमात में इन दिनों काफी संख्या में विदेशी आए हुए थे और दिल्ली के सैंकड़ों लोग भी तब्लीगी जमात में बराबर आ जा रहे थे. ऐसे में लोगों की पहचान करना अत्यंत आवश्यक था क्योंकि प्रशासन को शक था कि जो लोग इन दोनों जमात के संपर्क में रहे हैं उन्हें भी करोना वायरस हो सकता है.

जमात के लोगों से की गई पूछताछ और दस्तावेजों के आधार पर दिल्ली पुलिस ने गुरुवार सुबह तक कुल 816 ऐसे लोगों की पहचान की है जो जमात के संपर्क में थे. पुलिस के एक आला अधिकारी ने बताया कि इन सभी का मेडिकल परीक्षण कराया जा रहा है और जरूरत पड़ने पर इन लोगों को क्वॉरंटीन भी किया जाएगा.

मेडिकल स्टाफ पर थूकने वालों के खिलाफ होगा एक्शन
ऐसी तमाम शिकायतें आ रही हैं जिन से पता चल रहा है कि जमात के लोगों की ओर से दिल्ली पुलिसकर्मियों और स्वास्थ्य कर्मियों पर थूका जा रहा है. दिल्ली पुलिस के एक आला अधिकारी ने बताया कि ऐसे तमाम लोगों के खिलाफ सबूत इकट्ठे किए जा रहे हैं और वीडियो निकाले जा रहे हैं. सबूत सामने आने के बाद ऐसे सभी लोगों के खिलाफ महामारी फैलाने की धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया जाएगा.

आला अधिकारी ने कहा कि जहां-जहां भी ऐसी घटनाएं हुई है वहां से वीडियो फुटेज मंगाया जा रहा है और ऐसे लोग जो ऐसी ओछी हरकतें कर रहे हैं उन्हें आने वाले दिनों में आपराधिक मुकदमे का सामना करना पड़ेगा. ध्यान रहे की जमात में मिले हजारों लोगों को दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों में सुरक्षा के तौर पर भर्ती कराया गया है और वहां से इन लोगों की ओर से सरकारी कर्मचारियों से दुर्व्यवहार किए जाने की लगातार शिकायतें सामने आ रही है.