Thursday, 2 April 2020

आखिरी गेंद पर मैच का पासा पलटने वाले 5 धुरंधर, नंबर 1 को नहीं भूल सकते करोड़ों भारतवासी

क्रिकेट जगत में कई ऐसे मौके आये जब मैच का परिणाम अंतिम गेंद पर बदल गया. क्रिकेट की इसी अनिश्चितता की वजह से इस खेल को इतना पसंद किया जाता है. क्रिकेट के बारे में कहा जाता है कि एक गेंद के बाद ही मैच की परिस्तिथियां अनुकूल से विपरीत हो जाता हैं. आज के इस लेख में हम आपको कुछ ऐसे क्रिकेटर्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने मैच की आखिरी गेंद पर मैच का पासा पलट दिया था. आइये जानें-
5- शिवनारायण चंद्रपॉल
वेस्टइंडीज के बल्लेबाज शिवनारायण ने श्रीलंका के विरुद्ध खेले गये एक मुकाबले (10 अप्रैल, 2008) में लगभग हार चुके मैच में अपनी टीम को अंतिम गेंद पर अप्रत्याशित रूप से जीत दिलाई. आपको बता दें इस मुकाबले में वेस्टइंडीज को अंतिम ओवर में 13 रन की जबकि आखिरी गेंद पर 6 रन की जरूरत थी. ऐसे में चमिंडा वास की आखिरी गेंद परशिवनारायण ने छक्का जड़कर मैच का पासा पलट दिया.
4- ब्रेंडन टेलर
आखिरी गेंद पर मैच का पासा पलटने वाले 5 धुरंधर, नंबर 1 को नहीं भूल सकते करोड़ों भारतवासी
Third party image reference
2006 में बांग्लादेश के विरुद्ध जिम्बाब्वे की टीम बेहद ही खराब स्थिति में थी. जिम्बाब्वे को आखिरी ओवर की अंतिम गेंद पर 5 रन की जरूरत थी. बांग्लादेश को अपनी जीत नजर आ रही थी, लेकिन टेलर ने मशरफे मुर्तजा की गेंद पर छक्का लगाकर मैच का परिणाम अपने पक्ष में कर लिया.
3- ड्वेन ब्रावो
Third party image reference
2016 में वेस्टइंडीज के विरुद्ध खेले गये एक वनडे मैच में भारत को अंतिम गेंद पर जीत के लिए 2 रन चाहिए थे. क्रीज पर धोनी मौजूद थे और भारत की जीत लगभग तय थी. ऐसे में ड्वेन ब्रावो ने एक जबरदस्त गेंद डाली और धोनी आउट हो गये और भारत यह मैच 1 रन से हार गया.
2- दिनेश कार्तिक
Third party image reference
बांग्लादेश के विरुद्ध निदहास टी 20 ट्रॉफी के फाइनल में भारत को जीत के लिए आखिरी गेंद पर 5 रन की जरूरत थी. ऐसे में दिनेश कार्तिक ने आखिरी गेंद पर छक्का लगाकर मैच को भारत के नाम कर दिया.
1- जावेद मियांदाद
Third party image reference
पाकिस्तान के पूर्व बल्लेबाज 18 अप्रैल 1986 को भारत के विरुद्ध आखिरी गेंद पर छक्का लगाकर भारत से मैच छीन लिया था. इस मुकाबले में 246 रन का पीछा करते हुए पाकिस्तान को आखिरी गेंद पर 5 रन की आवश्यकता थी. मियांदाद की इस पारी को करोड़ों भारतवासी कभी नहीं भूल सकते.