Sunday, 5 April 2020

अस्पताल के खाने में 25-25 रोटियां खा रहे जमाती, बड़े गिलास में मांग रहे चाय


हाइलाइट्स
  • देहरादून के अस्पताल में जमाती मरीजों से चिकित्सक और स्वास्थ्यकर्मी परेशान
  • अस्पताल के चिकित्सकों से हर रोज फिजूल की मांग कर रहे हैं कोरोना के संदिग्ध मरीज
  • खाने में 25-25 रोटियां खा रहे जमाती, डॉक्टरों से कर रहे बड़े गिलास में चाय देने की मांग
  • दून अस्पताल में तबलीगी जमात में हिस्सा लेने वाले कुल 28 लोग भर्ती

देहरादून
दिल्ली की तबलीगी जमात में हिस्सा लेने के बाद देहरादून के दून अस्पताल में भर्ती कराए गए जमातियों ने यहां भी उत्पात की स्थितियां बना रखी हैं। अस्पताल में भर्ती जमाती डॉक्टरों से अलग-अलग मांग करने में जुटे हुए हैं। आलम ये है कि जमात में हिस्सा लेने के बाद यहां भर्ती हुए मरीज खाने में 25-30 रोटियां खा रहे हैं, जबकि सामान्यत: अस्पताल के मेन्यू में मरीजों को चार रोटी, सब्जी और दाल खाने को दी जाती है।
उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार, दून अस्पताल में तबलीगी जमात में हिस्सा लेने वाले कुल 28 लोग भर्ती हैं। इनमें पांच मरीज संक्रमित हैं, जबकि 23 अन्य संदिग्ध संक्रमण के शक में अस्पताल के आइसोलेशन वॉर्ड्स में रखे गए हैं। इन मरीजों में से कई की अभद्रता से चिकित्सक परेशान हैं। वहीं कई खाने और चाय के लिए बेवजह की मांग करके डॉक्टरों को तंग कर रहे हैं।

मांग पूरी नहीं हुई तो वॉर्ड में कई जगह थूका
अस्पताल के चिकित्सकों का कहना है कि अस्पताल में भर्ती एक कोरोना पॉजिटिव जमाती ने बीते दिनों अस्पताल के वॉर्ड में थूकना शुरू कर दिया था। बाद में किसी तरह अस्पताल के स्वास्थ्यकर्मियों ने उसे समझा-बुझाकर शांत कराया। इसके अलावा हर रोज कोई ना कोई जमाती चाय को कप की बजाय बड़ी गिलास में देने या किसी अन्य डिश की मांग को लेकर चिकित्सकों से उलझ रहा है। ऐसे में इलाज की मुश्किलों के बीच अस्पताल में चिकित्सकों के लिए इन जमातियों की मांग पूरा करना मुसीबत का सबब बन गया है।

NBT


बिजनौर और गाजियाबाद में ऐसी ही हालत
बता दें कि देहरादून समेत देश के कई अन्य हिस्सों में भी भर्ती तबलीगी जमात के सदस्यों के अस्पताल के चिकित्सकों की अभद्रता का मामला मीडिया के सामने आ चुका है। हाल ही में यूपी के गाजियाबाद में सीएमओ ने जिला प्रशासन से जमातियों के नर्सों से अभद्रता करने, अश्लील इशारे करने और बिना कपड़ों के वॉर्ड में घुमने की शिकायत दर्ज कराई थी। साथ ही पश्चिम यूपी के बिजनौर में भी जमातियों ने अस्पताल के चिकित्सकों से बिरयानी की मांग पूरी ना होने पर जमकर हंगामा किया था।