Friday, 20 March 2020

निर्भया केस में फांसी तो ऐसे आया बॉलीवुड सेलेब्स का रिएक्शन.


निर्भया केस में फांसी, दोषियों को सुबह साढ़े 5 बजे फंदे पर लटकाया गया
जितना गम और रोष 29 दिसंबर, 2012 के दिन पूरे देश में था उतनी ही खुशी आज 20 मार्च, 2020 को देश में देखी जा रही है। क्योंकि 8 साल बाद ही सही लेकिन निर्भया को आखिरकार इंसाफ मिल ही गया। चारों दरिंदों को निर्भया केस में फांसी की सज़ा मिल ही गई। सुबह साढ़े 5 बजे चारों को फांसी पर लटका दिया गया है। जिससे पूरे देश में खुशी का माहौल है। निर्भया केस पर बॉलीवुड सेलेब्स का रिएक्शन भी सामने आया है। तमाम बॉलीवुड सेलेब्रिटीज़ ने दरिंदों को फांसी पर खुशी ज़ाहिर की है।
निर्भया केस में फांसी पर किसने क्या कहा..
सुष्मिता सेन
अभिनेत्री और पूर्व मिस यूनिवर्स सुष्मिता सेन ने ट्वीट कर इसे न्याय की जीत बताया है। उन्होने निर्भया की मां आशा देवी की तारीफ भी की। उन्होने लिखा -
मां के धैर्य और सहनशक्ति को इंसाफ मिल गया है। आखिरकार न्याय हुआ।
रितेश देशमुख
अभिनेता रितेश देशमुख सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं। और हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखते हैं। निर्भया केस में फांसी हो जाने के बाद रितेश ने अपनी राय रखी है। उन्होंने कहा-
निर्भया के माता पिता, उनके दोस्तों के साथ मेरी संवेदना है। समय जरूर लगा लेकिन न्याय हुआ है।
तापसी पन्नू
सामाजिक मुद्दों पर खुलकर सामने आने वाली अभिनेत्री तापसी पन्नू ने भी निर्भया केस के दोषियों को सज़ा मिलने पर खुशी ज़ाहिर की है। उन्होने लिखा -
सालों बाद निर्भया के माता-पिता और उनका परिवार चैन की नींद सो पाएगा। ये काफी लंबी और संघर्षपूर्ण लड़ाई रही।
वहीं उन्होने निर्भया की मां आशा देवी को प्रणाम भी किया।
क्या है निर्भया केस
ये पूरा मामला 16 दिसंबर, 2012 की रात का है जब चलती प्राइवेट बस में 21 साल की लड़की से 6 लोगों ने ना केवल दुष्कर्म किया बल्कि क्रूरता की हर हदों को पार कर दिया। ये वाक्या राजधानी दिल्ली जैसे सुरक्षित माने जाने वाली जगह पर हुआ। निर्भया ने जिंदगी और मौत के बीच लंबी जंग लड़ी। लेकिन 29 दिसंबर, 2012 को निर्भया ने आखिरी सांस ली। सभी 6 आरोपियों को पकड़ लिया गया था। जिनमें से एक नाबालिग था जिसे जुवेनाइल कोर्ट में भेजा गया। जहां बाद में उसे बरी कर दिया गया है। वहीं एक आरोपी ने तिहाड़ जेल में खुदकुशी कर ली थी। जनवरी में ही पहली बार निर्भया केस में फांसी की तारीख का ऐलान किया गया था। लेकिन बार-बार वो तारीख टलती रही। आखिरकार चारों को आज 20 मार्च के दिन सुबह साढ़े 5 बजे फांसी पर लटका दिया गया है।