Sunday, 29 March 2020

औरंगाबाद : फांसी के बाद अधूरी रह गईं अक्षय की पत्नी की ये ख्वाहिशें

ऐसे ही न्यूज़ पढ़ने के लिए फॉलो करे

औरंगाबाद : फांसी के बाद अधूरी रह गईं अक्षय की पत्नी की ये ख्वाहिशें
Third party image reference
निर्भया के चारों दोषियों को शुक्रवार को फांसी हो गई चारों दोषियों में बिहार के औरंगाबाद का अक्षय ठाकुर भी था अक्षय की पत्नी का कहना है कि अंतिम मुलाकात की उसकी ख्वाहिश हमेशा के लिए अधूरी रह गई अक्षय की पत्नी अपने 8 साल के बेटे के साथ तिहाड़ मिलने पहुंची थी, लेकिन देरी से पहुंचने के चलते जेल प्रशासन ने उन्हें मुलाकात नहीं करने दी |
अक्षय की फांसी की खबर मिलने के बाद उसकी पत्नी का रो रोकर बुरा हाल है पत्नी ने कहा, वे चले गए, लेकिन मैं अब पल पल मरूंगी अक्षय के परिजनों के भी आंसू रुकने का नाम नहीं ले रहे |
मेरी बात किसी ने नहीं सुनी

Third party image reference
अक्षय की पत्नी ने मीडिया पर भी नाराजगी जताई उन्होंने रोकर कहा, सबने निर्भया की मां की सुनी मैं भी महिला हूं। लेकिन मेरी आवाज किसी ने नहीं सुनी |
ऐसा है गांव का हाल
अक्षय नवीनगर के लहंगकर्मा का रहने वाला था गांव में जहां उसके किए पर फांसी मिलने पर संतोष है लेकिन उसके परिवार के बारे में सोचकर दुख भी है गांव में अधिकतर गलियां वीरान पड़ी हैं लोग मीडिया को अक्षय के घर तक पहुंचने से रोक रहे हैं |
नौकरी नहीं मिली तो बस कंडक्टर बन गया

Third party image reference
गांव वालों का कहना है कि अक्षय ऐसा लड़का नहीं था। घर की स्थिति ठीक नहीं थी इसलिए दिल्ली में नौकरी करने गया था जब नौकरी नहीं मिली तो कंडक्टर का काम करने लगा जब गांव के लोगों को निर्भया मामले में शामिल होने का पता चला तो सब अचंभित रह गए |
निर्भया गैंगरेप और हत्याकांड
16 दिसंबर, 2012 की रात में 23 साल की निर्भया से दक्षिण दिल्ली में चलती बस में 6 लोगों ने दरिंदगी की थी इनमें अक्षय भी शामिल था साथ ही निर्भया के साथ बस में मौजूद दोस्त के साथ भी मारपीट की गई थी दोनों को चलती बस से फेंक कर दोषी फरार हो गए थे |
इसके बाद निर्भया का दिल्ली के अस्पताल में इलाज चला था जहां से उसे सिंगापुर के अस्पताल में इलाज के लिए भेजा गया था 29 दिसंबर को निर्भया ने सिंगापुर के अस्पताल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था |

Third party image reference
कोर्ट ने 6 आरोपियों को दोषी ठहराया था एक नाबालिग था, जिसे 3 साल सुधारगृह में रहने के बाद छोड़ दिया गया वहीं, एक अन्य दोषी राम सिंह ने जेल में ही फांसी लगा ली चार दोषियों को 20 मार्च को फांसी दी गई |
इस बारे में अपनी राय लिखे और ऐसे ही न्यूज़ पढ़ने के लिए फॉलो करे धन्यवाद |