Tuesday, 24 March 2020

कोरोना से लड़ रहे शाहिद अफरीदी को देख कुछ तो सीख लें इंडिया के महान क्रिकेटर्स

कोरोना से लड़ रहे शाहिद अफरीदी को देख कुछ तो सीख लें इंडिया के महान क्रिकेटर्स
शाहिद अफरीदी. पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान. आक्रामक बैटिंग और लेगस्पिन के लिए मशहूर. शाहिद का पूरा नाम साहिबजादा मोहम्मद शाहिद खान अफरीदी है. चाहने वालों में लाला के नाम से मशहूर अफरीदी एक बार फिर चर्चा में हैं. पूरी दुनिया की तरह पाकिस्तान भी कोरोना वायरस से जूझ रहा है. ऐसे में लाला ने लोगों की मदद करने का फैसला किया है. वह अपनी शाहिद अफरीदी फाउंडेशन के जरिए लोगों में राशन, सैनेटाइजर जैसी चीजें बांट रहे हैं.
कोरोना का संकट लगातार बढ़ता जा रहा है. तमाम देश लॉकडाउन हो रखे हैं. हर जगह की सरकार अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर इस महामारी से जूझ रही है. लेकिन सरकार के अकेले करने से कुछ नहीं होता. उसे ज्यादा से ज्यादा लोगों की मदद की जरूरत होती है. यही हाल पाकिस्तान का भी है. पाकिस्तान सरकार अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रही है. इस कोशिश में उसे शाहिद अफरीदी का साथ भी मिला है.

# असली हीरो अफरीदी

शाहिद 21 मार्च 2020 से ही लोगों में जागरूकता फैला रहे हैं. साथ ही अपनी फाउंडेशन के जरिए वह राशन और हैंड सैनेटाइजर भी लगा रहे हैं. इसके अलावा उन्होंने साहिबजादा फज़ल रहमान चैरिटी हॉस्पिटल में एक आइसोलेशन वॉर्ड भी बनाया है. यह अस्पताल शाहिद अफरीदी फाउंडेशन ही चलाता है. फज़ल रहमान शाहिद के पिताजी थे. उनकी मौत के बाद शाहिद ने 2014 में अपना फाउंडेशन शुरू किया और साथ ही यह अस्पताल भी बनवाया था. अफरीदी के इन प्रयासों की बेहद तारीफ हो रही है.
बता दें कि अफरीदी के साथ दुनिया भर के कई एथलीट्स इन महामारी के खिलाफ लोगों की मदद कर रहे हैं. फ्रांस के रहने वाले फुटबॉलर पॉल पोग्बा ब्रिटिश स्वास्थ्यकर्मियों के लिए पैसे खर्च कर रहे हैं. स्वीडन के रहने वाले फुटबॉलर ज़्लाटन इब्राहिमोविच इटली के अस्पतालों की मदद कर रहे हैं.
पोलैंड के रॉबर्ट लेवांडोव्स्की और उनकी बीवी एना ने मिलकर 10 लाख यूरो की रकम दान की है. जर्मन क्लब बायर्न म्यूनिख में उनके साथ खेलने वाले लिओन गोरेत्ज़का और जोशुआ किमिख ने मिलकर ‘वी किक कोरोना’ नाम से फंड शुरू किया है. दोनों ने मिलकर इसमें 10 लाख यूरो की रकम दी है. वी किक कोरोना में अब तक 25 लाख यूरो इकट्ठा हो चुके हैं. मैनचेस्टर सिटी. इंग्लैंड का क्लब है. यहां खेलते हैं लेरॉय साने. जर्मनी के निवासी साने ने भी कोरोना से लड़ने के लिए दान किया है.
ऐसे तमाम एथलीट्स के बारे में आप

# भारत में नहीं हैं हीरोज!

अब इन सबके बीच भारत के सुपरस्टार एथलीट्स क्या कर रहे हैं? हाथ धोने के तरीके बता रहे हैं. अभी तक की अपडेट के मुताबिक सिर्फ इरफान पठान और यूसुफ पठान ही इस महामारी के खिलाफ डटकर खड़े हुए हैं. पठान बंधुओं ने मास्क बांटना शुरू किया है. साथ ही लोगों से अपील कर रहे हैं कि वह जितनी हो सके उतनी मदद करें.
लेकिन एक दिन की विज्ञापन शूटिंग के लिए करोड़ों लेने वाले महान क्रिकेटर्स अब भी घरों में छिपे बैठे हैं. साल के सैकड़ों करोड़ कमाने वाले भी बस हाथ धुलने के तरीके बताकर शांत बैठ गए हैं.
कोरोना वायरस से इटली में मची आफत के बीच लड़ने आ गया ये फुटबालर