Thursday, 19 December 2019

दामाद ने लगाया मौसमी चटर्जी पर गंभीर आरोप, कहा- मरी बेटी का मुंह देखने तक नहीं आईं

मुंबई. बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस मौसमी चटर्जी (Moushumi Chatterjee) की 31 साल की बेटी पायल की लंबी बीमारी के बाद पिछले हफ्ते निधन हो गया. वो बीते करीब दो साल से कोमा में थीं. उन्हें जुवेनाइल डायबिटीज थी. लगातार कोमा में रहने के दौरान पायल के पति डिकी सिन्हा उन्हें अस्पताल से घर ले आए थे. तब मौसमी चटर्जी ने अपने दामाद डिकी सिन्‍हा पर कई गंभीर आरोप लगाए थे. मौसमी का कहना था कि उनके डिकी उन्हें उनकी बेटी से मिलने नहीं देते ना ही वो बीमारी के दौरान सही से उनकी देखभाल कर रहे हैं. यहां तक कि डिकी ने पायल की फिजियोथैरपी वाली ट्रीटमेंट भी बंद करा दी है. यह मामला बॉम्बे हाईकोर्ट तक पहुंची थी. लेकिन अब पायल के निधन के बाद डिकी सिन्हा सामने आए हैं. उन्होंने उलट कर मौसमी चटर्जी पर ही कई गंभीर आरोप लगा दिए हैं. डिकी ने स्पॉटबॉय को एक लंबा इंटरव्यू देकर अपनी बात रखी है. डिकी का कहना है कि उन्होंने जितने अच्छे से पायल का खयाल रखा उस पर कई बॉलीवुड सेलेब्स उनकी तारीफों के पुल बांधने लगे थे. ये मौसमी से बर्दाश्त नहीं हुआ तो वो और ज्यादा परेशान करने के लिए कोर्ट चली गईं.

‌डिकी के अनुसार, 'मौसमी चटर्जी तो अपनी बेटी का मरा मुंह तक देखनी नहीं आईं. यहां तक कि पायल के फ्यूनरल के वक्त भी पायल के पिता और बहन ही पहुंचे थे. मौसमी वहां भी नहीं आई थीं.' डिकी ने अपने इंटरव्यू में कहा कि उनके पास सभी सबूत हैं, रिकॉर्ड‌िंग्स हैं. पायल की तबीयत बीते दो महीनों में ज्यादा बिगड़ी थी. इसकी सबको जानकारी थी, लेकिन मौसमी पायल को बस पांच बार देखने आईं. सभी पांच बार में वो 5 मिनट से ज्यादा एक बार नहीं रुकीं.

इस दौरान एक बार पायल की बहन मेघा ने यह जानते हुए कि उनकी जुवेनाइल डायबटीज जैसी घातक बीमारी है, प्रसाद खिलाने की कोशिश की. इससे पायल की हालत एकदम से बिगड़ गई थी.

डिकी ने कहा, 'कोमा के दौरान पायल दो बार होश में आईं. बल्कि उनकी देखभाल का ही नतीजा था कि वो सहारे से चलने के काबिल हो गई थीं. लेकिन बाद में उनकी हालत बिगड़ गई. वो मेरे साथ अंतिम दम तक रहीं. मैं ये सब बताकर खुद पर लगे आरोपों की सफाई नहीं देना चाहता. लेकिन अब सच सबके सामने आना जरूरी है.'