Monday, 9 December 2019

'ब्रह्माण्ड सुंदरी' बन इन दो लड़कियों ने किया था भारत का नाम रोशन, दिया था इन कठिन सवालों का जवाब

मिस यूनिवर्स 2019 का ताज साउथ अफ्रीका की जोजिबिनी टूंजी के सिर सजा है। अमेरिका के अटलांटा में मिस यूनिवर्स 2019 की अंतिम प्रतियोगिता हुई, जहां जोजिबिनी ने बाकि प्रतियोगियों को पीछे छोड़ दिया। दुनिया का पहला मिस यूनिवर्स कॉन्टेस्ट साल 1952 में अमेरिका के कैलिफोर्निया में हुआ था। भारत की ओर से वर्तिका सिंह ने भी इस प्रतियोगिता में हिस्सा लिया लेकिन वह शीर्ष दस में जगह नहीं बना पाईं। आइए जानते हैं भारत के नाम मिस यूनिवर्स का ताज कब-कब आया है?
बीते 68 सालों में अब तक भारत से दो ही सुंदरियां ये खिताब जीत सकी हैं। हैदराबाद में जन्मीं सुष्मिता सेन ने 1994 में मिस यूनिवर्स का खिताब जीता था। उस समय सुष्मिता की उम्र सिर्फ 19 साल थी। इतनी छोटी उम्र में सुष्मिता सेन वो पहली भारतीय महिला बनीं जिन्होंने मिस यूनिवर्स का खिताब अपने नाम किया।
कहा जाता है सुष्मिता ने मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता के दौरान एक जवाब से बाजी मार ली थी। सुष्मिता का मुकाबला ऐश्वर्या राय से था। एक सवाल में जब दोनों से पूछा गया कि यदि आप किसी ऐतिहासिक घटना को बदल सकतीं, तो वो क्या होती? इस पर ऐश्वर्या का जवाब था, 'अपने जन्म का समय, जबकि सुष्मिता ने कहा था, 'इंदिरा गांधी की मृत्यु'। सुष्मिता के इसी जवाब ने उन्हें मिस यूनिवर्स का खिताब दिलाया।
लारा दत्ता ने साल 2000 में मिस यूनिवर्स का खिताब अपने नाम किया था। लारा दत्ता साल 2000 से अब तक मिस यूनिवर्स का ताज जीतने वाली एक मात्र भारतीय महिला बनी हुई हैं। सुष्मिता सेन के बाद मिस यूनिवर्स बनने वाली लारा दत्ता दूसरी भारतीय महिला हैं। लारा उस वक्त 22 साल की थीं। बता दें कि लारा का इंटरव्यू किसी भी कैटेगरी में रिकॉर्ड किया हुआ सबसे लंबा इंटरव्यू रहा। उन्हें 9.99 नंबर मिले थे।
लारा दत्ता से सवाल किया गया था- ब्यूटी कॉन्टेस्ट वुमन्स के लिए रिस्पेक्फुल नहीं? कैसे साबित करेंगी कि ये बात गलत है? लारा ने जवाब दिया था- मैं समझती हूं कि मिस यूनिवर्स जैसी प्रतियोगिताएं यंग वुमन के लिए एक बेहतरीन प्लेटफॉर्म हैं। इसी के माध्यम से हम आगे बढ़ सकते हैं और हम जिस फील्ड में जाना चाहे जा सकते हैं। हम बिजनेस, राजनीति सहित अन्य फील्ड में काम कर सकते हैं। हम मजबूती से अपनी राय, अपने विचार रख सकते हैं।