Friday, 30 August 2019

अगर अपनाएंगे ये उपाय तो बदल सकती है आपकी किस्मत




आमतौर पर एक रुपए के सिक्के को हम ज्यादा अहमियत नहीं देते। लेन-देन में भी इसका ज्यादा फर्क नहीं पड़ता पर हॉ जब किसी शुभ कार्य या शगुन आदि देते समय साथ में एक रुपया जरूर रखते हैं। क्या आप को मालूम है कि यही एक रूपए का सिक्का आप की किस्मत भी बदल सकता है। आप की परेशानियों को भी दूर कर सकता है। बेशक आप के लिए एक रुपए का कोई मोल न हो पर यही सिक्का बहुत चमत्कारी साबित हो सकता है। आज हम आप को बता रहे हैं कि यह एक रुपए का सिक्का आप की किस्मत कैसे बदल सकता है।
इंसान के जीवन में खुशियां पर परेशानियां आती-जाती रहती है। आज दुःख है तो कल खुशियां भी होंगी। जब आप के जीवन में कठिन दौर चल रहा हो तो उस समय जब भी आपको किसी नदी, तालाब के पास से गुजरने का मौका मिले। अपने हाथ में एक सिक्का लें और अपनी इच्छा बोलकर उसे पानी में डाल दें। आपकी परेशानी का निवारण जल्द हो जाएगा।
अगर आप लंबे वक्त से किसी बीमारी की चपेट में हैं और इलाज करने पर भी लाभ नहीं मिल पा रहा है तो ये उपाय एक बार जरूर करना चाहिए। किसी श्मशान भूमि पर अपने अथवा जो रोगी है उसके ऊपर से सात बार एक रुपए के सिक्के को उतारें और फिर जलती हुई चिता डाल दें या फिर वहां की भूमि में उसे गाड़ दें। रोगी को जल्द आराम मिलेगा।
आप रात भर अपने सिराहने पर एक रुपए का सिक्का रख लें और उसे अगले दिन श्मशान में फेंक सकते हैं। आप की मनोकामना पूरी होगी।


सिरहाने पर 1 का सिक्का और अपनी ऊंचाई के बराबर मौली नाप कर रख लें और अगले दिन वह रुपया और मौली शिवजी के मंदिर में चढ़ा दें। इस उपाय से रोगों से मुक्ति मिलती है।
यदि किसी व्यक्ति को बीपी, मधुमेह या फिर त्वचा से जुड़ी परेशानी है तो उसे रात को तांबे के जग या लोटे में एक रुपए का सिक्का डालकर जल भरना चाहिए। सुबह के समय इस पानी को पिएं, लाभ होगा।
भले ही आपके पर्स में बहुत सारा कैश या बड़े नोट हो या नहीं लेकिन एक रुपए का सिक्का जरूर रखना चाहिए। ऐसा करने से धन की आमद बढ़ेगी और बरकत बनी रहेगी।
यदि आप पर शनि की टेढ़ी दृष्टि है तो उससे राहत पाने में भी एक रुपए का सिक्का आपकी मदद करेगा। यदि आप पर शनि दोष या साढ़ेसाती है तो आप एक रुपए का सिक्का और एक मुट्ठी साबुत उड़द की दाल अपने ऊपर से सात बार घुमाएं और फिर उसे काले कपड़े में बांधकर शाम के समय किसी शनि मंदिर या पीपल के पेड़ के नीचे छोड़कर आ जाएं। ऐसा आप 21 शनिवार तक करें, शनिदेव आप पर प्रसन्न हो जाएंगे।