Monday 26 August 2019

मूवी रिव्यू : मलाल , प्रभावशाली प्रेम कथा

फिल्म मलाल निर्देशक मंगेश हाडा वर्ली और कलाकार मिर्जान जाफरी सरमन सिंगल समीर धर्माधिकारी जैसे निर्देशक और कलाकारों से बनाई गई एक प्रेम कहानी है जिसमें थोड़ा देसी पन झलकता है। 
यह फिल्म एक तमिल फिल्म 7जी रेनबो कॉलोनी से प्रेरित फिल्म है। जिसमें मीजान जाफरी जो जावेद जाफरी के बेटे हैं जिन्होंने एक सड़क छाप लड़के का किरदार निभाया है जो थोड़ा तुनक मिजाज है और अधिकतर समय लड़ाई झगड़ों में बिताता है। शर्मीन सेंगर ने आस्था नाम की एक लड़की का किरदार निभाया है, जो बहुत सीधी-सादी और संजीदा है। वहीं मीजान जाफरी ने शिवा नामक टपोरी का किरदार निभाया है। जिसकी अपने पिता से नहीं बनती। आस्था को गरीबी के कारण चौल में रहने आती है, शुरू में शिवा और आस्था में अच्छी नहीं बनती और झगड़े होते रहते हैं फिर धीरे-धीरे उसे चाहनें लगता है।
धीरे धीरे हो गया के लिए अपने सारे बुरे काम छोड़ देता है। और नौकरी करने लगता है आगे भी तभी आती है नाश्ता की शादी कहीं और तय हो जाती है और वह चोर को छोड़कर कहीं और शिफ्ट हो जाते हैं। एक दिन आस्था की सगाई कहीं और हो जाती है। ऑटिज्म बिगड़ जाती है और फिर वही रोना गाना और उसे वापस पा लेना। 
फिल्म देखने लायक है बोर बिल्कुल नहीं करती संगीत काफी अच्छा है और डांस ने भी प्रभावित किया है दोनों की एक्टिंग ठीक है जो बाद में निखार ला सकती है। सब मिलाकर यह फिल्म देखी जा सकती है आपका पैसा बर्बाद नहीं जाएगा।