Monday 19 August 2019

इस बेल में है संजीवनी बूटी के समान गुण, ऐसे करें इस्तेमाल


Third party image reference
ऊपर दिए गए पीले रंग के बटन को दबाकर हमें फॉलो करें ताकि हम आगे भी आपको ऐसी रोचक जानकारियों से अवगत करा सके।
दोस्तों प्रकृति ने हमें कई तरह के पेड़ पौधे दिए है जिनका इस्तेमाल हम औषधि के रूप में कर सकते है। ये प्राकृतिक औषधियां अग्रेजी दवाईया से कई गुणा बेहतर होती है और इनके कोई साईड इफेक्ट भी नही होते है। अमरबेल एक बेल(लता) है ये पूरे भारत वर्ष में पायी जाती है। ये लता यानि बेल रूपी वनस्पति है। इस वनस्पति में कोई मूल यानी जड़ नहीं होती, क्यूंकि यह जमीन पर नहीं उगती है। यह दूसरे पेड़ पौधों पर फलती फूलती है। और उन्ही से अपना आहार उनके रस को चूस कर लेती है। दोस्तो आज हम आपको हमारी इस पोस्ट से अमरबेल के आयुर्वेदिक फायदों और इस्तेमाल करने तरीकों के बारें में विस्तार से बताने जा रहे है।
बाल झड़ना

Third party image reference
दोस्तो गंजापन होने या बाल झड़ने पर अमर बेल को पीसकर तिल तेल में मिलाकर बालो में लागाने से बाल झड़ना बंद हो जाता है।
दर्द निवारक

Third party image reference
आकाश बेल को पीसकर चोट पर लागाने से घाव जल्दी भरते है, सूजन कम होती है और ये दर्द निवारक का कार्य भी करता है।
खूनी बवासीर
बादी या खूनी बवासीर होने पर अमर बेल का रस, जीरा पाउडर को पानी में घोलकर सुबह शाम पीने से लाभ मिलता है।
कद बढ़ाने में
बच्चो के रुके हुए कद बढ़ाने में अमरबेल बहुत असरदार होता है। इसके रस को दूध में मिलाकर पीने से लाभ होता है।
दोस्तों कमेंट करके बताएं कि आपको हमारी यह पोस्ट कैसी लगी।