Saturday 17 August 2019

20 साल से ज्यादा उम्र है तो ध्यान रखें इन बातों का जानिए

अगर आपकी उम्र 20 से 30 साल हो गई है और आप खुद पर जरा सा भी ध्यान नहीं दे रहे है। तो जान लें इन शुरुआती लक्षणों के बारें में। जिन्हें अनदेखा करना आपकी मौत का कारण बन सकती है।

Third party image reference
ज्यादातर लीवर की खराबी अधिक तेल मसाले वाला भोजन, ज्यादा शराब पीने या बाहर का खाना अधिक खाने की वजह से होता है. लीवर की खराबी के कई लक्षण हो सकते हैं. इसमें मुंह बदबू आना, आंखों के नीचे काले धब्बे पड़ना, पेट में हमेशा दर्द रहना, भोजन का सही ढंग से नहीं पचना, त्वचा पर सफ़ेद धब्बे पड़ना, पेशाब या मल गहरे रंग का होना इत्यादि लीवर की खराबी के सामान्य लक्षण हैं. लीवर की खराबी का हमें जांच के बाद ही पता चल सकता है !

Third party image reference
आंखें हैं तो रोशनी है, रंगीनियां हैं, खूबसूरती है। नहीं हैं, तो है सिर्फ अंधेरा। गहरा अंधेरा। हमारे शरीर के सबसे खास और नाजुक अंगों में से एक होती है आंखें। अगर इनका ख्याल न रखा जाए तो छोटी-सी परेशानी जिंदगी भर की तकलीफ बन सकती है। पर लोग आंखों की सेहत पर उतना ध्यान नहीं देते, जितना उन्हें देना चाहिए। नतीजन बढ़ती उम्र के साथ आंखों की रोशनी घटने लगती है।

Third party image reference
कैंसर एक ऐसी खतरनाक बीमारी है, जिससे शरीर के किसी भी हिस्से की कोशिकाएं अनियंत्रित रूप से विभाजित होने लगती हैं. कैंसर शरीर के एक हिस्से से दूसरे हिस्सों में फैलता है. सबसे पहले शरीर के किसी एक हिस्से में होने वाले कैंसर को प्राइमरी ट्यूमर कहते है. जिसके बाद शरीर के दूसरे हिस्सों में होने वाला ट्यूमर मैटास्टेटिक या सेकेंडरी कैंसर कहलाता है!

Third party image reference
वायु प्रदूषण दे रहा बीमारी को बढ़ावा : एमजीएम अस्पताल के सीनियर फिजीशियन डॉ. बलराम झा ने बताया कि अस्थमा एक सांस की बीमारी है। जिसमें व्यक्ति की सांस फूलने लगी है और उसे सांस लेने में दिक्कत होती है। इसे डॉक्टरी भाषा में रेस्पिरेटरी इंफ्लामेटरी इंफेक्शन कहा जाता है।

Third party image reference
डिप्रेशन यानि मानसिक तनाव आज पूरी दुनिया के लिए चिंता का विषय बना हुआ है। पूरी दुनिया में लगभग 300 मिलियन लोग डिप्रेशन का शिकार है, जिसमें ज्यादतर संख्या युवाओं की है। आंकड़े के अनुसार, भारत में 14 वर्ष से कम उम्र के 50 प्रतिशत बच्चे और 25 वर्ष से कम उम्र के 75 प्रतिशत युवा अवसाद की चपेट में हैं।

Third party image reference
मधुमेह यानी डायबिटीज से पीड़ित लोगों को दिल की बीमारियों से मौत का खतरा बढ़ जाता है। टाइप-2 डायबिटीज वाले लोगों में लगभग 58 प्रतिशत मौतें हृदय संबंधी परेशानियों के कारण होती हैं!

Third party image reference
रिसर्च के मुताबिक, कम उम्र में हाई ब्लड प्रेशर का टीट्रमेंट ना होने से 20 की उम्र से लेकर 40 की उम्र तक के युवाओं को फ्यूचर में किडनी की समस्या हो सकती है. यहां तक कि उन्हें किडनी तक बदलवानी पड़ सकती है!
दिल्ली के वेंकटेश्वर अस्पताल के किडनी ट्रांसप्लांट निदेशक डॉ. पी.पी. वर्मा का कहना है कि भारत में किडनी फेल होने के तकरीबन 70% मामलों के लिए हाई ब्लड प्रेशर और डायबिटीज जिम्मेदार हैं!

Third party image reference

हमें उम्मीद है की आप लोगों को यह खूबसूरत पोस्ट पसंद आई होगी, नीचे दिए गए लाइक और फॉलो बटन पर क्लिक करना ना भूले, हम आपके लिए ऐसी ही पोस्ट लाते रहेंगे !