Saturday 13 July 2019

शलजम खाने से होते हैं 8 लाजवाब फायदे, चौथा फायदा है हैरान कर देने वाला

शलजम की जड़ मोटी होती है, जिसको पकाकर या कच्चा खाते हैं। इसकी पत्तियाँ भी शाग के रूप में खाई जाती हैं। सेहत के लिए इसे बहुत ही मूल्यवान माना जाता है। इसमें ठोस पदार्थ 9 से 12 प्रतिशत और विटामिन बी और विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पायी जाती हैं। इसके अलाबा भी इसमें भरपूर मात्रा में पोषक तत्व पाए जाते हैं। शलजम के सेवन से कई बीमारियों में लाभ भी मिलता है। शलजम मुख्य रूप से सफ़ेद, पीले और बैगनी रंग के पाए जाते हैं। सभी तरह के शलजम भारत में उगाये जाते हैं। आज मैं इस लेख में आपको शलजम के आठ फायदे बताने जा रहा हूँ। आइये जानते हैं उन फायदों के बारे में।

Google Image
1.दमा में लाभकारी

Google Image
शलगम को पानी में उबालकर उसके पानी को छानकर और उसमें चीनी मिलाकर पीने से दमा, खांसी और गला बैठने का रोग ठीक हो जाता है।
2.कैंसर की रोकथाम

Google Image
शलजम में एंटीऑक्सिडेंट और फाइटोकेमिकल्स के उच्‍च स्‍तर के कारण यह कैंसर के खतरे को कम करने में मदद करता है। ग्लूकोसाइनोलेट्स की उपस्थिति के कारण यह कैंसर के प्रभाव को कम करने में मदद करता है। अपने दैनिक आहार में इस सब्जी का समावेश कर स्तन कैंसर के जोखिम के साथ-साथ मलाशय और ट्यूमर को भी कम कर सकते हैं।
3.मधुमेह में लाभदायक

Google Image
मधुमेह के रोग में रोजाना शलगम की सब्जी खाना लाभदायक होता है। इसके पत्तों का रस पीना भी मधुमेह के रोगियों के लिए बहुत ही लाभदायक होता है।
4.हृदय स्वास्थ्य के लिए वरदान

Google Image

Google Image
शलजम में मौजूद विटामिन 'ए' के कारण यह एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर होता है। यह गुण हार्ट अटैक, हार्ट स्‍ट्रोक और अन्‍य हृदय रोगों को रोकने में मदद करता है। शलजम फोलेट का भी एक बेहतरीन स्रोत है जो हृदय प्रणाली को बढ़ावा देने में मदद करता है।
5.अंगुलियों की सूजन

Google Image
50 ग्राम शलगम को 1 लीटर पानी में उबालें। फिर उस पानी में हाथ-पैर डालकर रहने से अंगुलियों की सूजन खत्म हो जाती है।
6.हड्डियों के लिए महत्‍वपूर्ण

Google Image
कैल्शियम और पोटेशियम का एक महत्वपूर्ण स्रोत होने के कारण शलजम स्वस्थ हड्डियों के विकास और रखरखाव के लिए महत्वपूर्ण होता हैं। शलजम का सेवन नियमित रूप से करने से हड्डियों के टूटने, ऑस्टियोपोरोसिस के खतरे और रुमेटी गठिया की समस्‍याओं को रोका जा सकता है।
7.पेशाब रुक-रुक कर आना

Google Image
शलगम और कच्ची मूली को काटकर खाने से पेशाब का रुक-रुककर आने का रोग दूर हो जाता है।
8.फेफड़ों का स्वास्थ्य

Google Image
सिगरेट के धुएं में पाया जाने वाला कार्सिनोजेन्‍स शरीर में विटामिन 'ए' की कमी के कारण नुकसान पहुंचाता है। जिसके परिणामस्‍वरूप फेफड़ों की सूजन, एम्फीसेमा और अन्‍य फेफड़े की समस्याएं हो सकती है। शलजम में निहित विटामिन 'ए' इस कमी को दूर करके फेफड़ों को स्‍वस्‍थ बनाए रखने में मदद करता है।
दोस्तों, अगर आपको हमारी जानकारी पसंद आयी हो तो इसे शेयर, लाइक और हमारे चैनल को फॉलो करें।