Tuesday 16 July 2019

क्रिकेट में धोनी के 4 कड़े फैसले, जिन्होंने पूरी दुनिया को चौंकाया, नंबर 3 से फैंस नाराज

क्रिकेट की दुनिया में महेंद्र सिंह धोनी को सबसे बड़ा ब्रांड माना जाता है। धोनी ने अपने करियर में कई ऐसे फैसले लिए हैं जिन्होंने पूरी दुनिया को चौंका दिया। आज हम आपको इस आर्टिकल में धोनी के उन चार कड़े फैसलों के बारे में बात करेंगे, जो हमेशा याद रखे जाएंगे।
1. साल 2009 की प्रेस कॉन्फ्रेंस

Third party image reference
साल 2009 में महेंद्र सिंह धोनी ने अचानक ही एक प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई। जिसका सबसे बड़ा कारण यह था कि धोनी और वीरेंद्र सहवाग के बीच अनबन की अफवाह उड़ाई जा रही थी। लेकिन इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में महेंद्र सिंह धोनी ने मीडिया के सभी सवालों की जवाब दिए। जिसके बाद महेंद्र सिंह धोनी और वीरेंद्र सहवाग की अनबन की अफवाह केवल अफवाह बन कर रह गई।
2. 2007 वर्ल्ड कप में अंतिम आवर जोगिंदर सिंह से करवाना

Third party image reference
2007 वर्ल्ड कप के फाइनल में पाकिस्तान के खिलाफ महेंद्र सिंह धोनी ने अंतिम ओवर जोगिंद्र सिंह से करवाया। यह फैसला धोनी का सबसे कड़ा फैसला माना जाता है। लेकिन इसी फैसले के चलते 2007 में भारत ने T20 वर्ल्ड कप का खिताब अपने नाम किया था।
3. टेस्ट क्रिकेट से अचानक संन्यास

Third party image reference
क्रिकेट फैंस के लिए वह पल बहुत ही भावुक कर देने वाला था जब महेंद्र सिंह धोनी ने अचानक ही टेस्ट क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी। साल 2014 के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर टेस्ट सीरीज के दौरान महेंद्र सिंह धोनी ने यह घोषणा की। जिसके बाद बाकी बचे मैचों में विराट कोहली ने भारतीय टीम की कप्तानी की थी।
4. 2011 वर्ल्ड कप में खुद को ऊपर प्रमोट करना

Third party image reference
साल 2011 का वर्ल्ड कप भारतीय क्रिकेट इतिहास का एक आईकॉनिक पल रहा। फाइनल मैच में भारतीय टीम लड़खड़ा रही थी। लेकिन महेंद्र सिंह धोनी ने खुद को युवराज से पहले प्रमोट किया। इस मैच में धोनी ने शानदार 91 रन की पारी खेलकर भारत को 28 साल बाद वर्ल्ड कप का खिताब जिताया था। महेंद्र सिंह धोनी का यह फैसला हमेशा याद रखा जाएगा।