Saturday 11 May 2019

बड़ी से बड़ी बीमारियों का काल है यह दिव्य फल, प्राचीन काल से ऋषि मुनि करते आ रहे हैं उपयोग

नमस्कार दोस्तो स्वागत है आपका हमारे चैनल पर, सेहत से जुड़ी जानकारी के लिए सबसे पहले ऊपर दिए गए पिले बटन को दबाकर हमे फॉलो करें। बीमार होने पर हमें डॉक्टर फल खाने की सलाह देते हैं जो हमारे शरीर की सभी प्रकार की पोषक तत्वों को पूरी करके शरीर की कमजोरी को दूर करने में सहायक होते हैं। हमारे आसपास अनेक प्रकार के ऐसे फल पाए जाते हैं जो सेहत के लिए काफी फायदेमंद माने जाते हैं लेकिन हमें उनके बारे में मालूम नहीं होता इसलिए हम उनका उचित उपयोग नहीं कर पाते हैं। आज हम आपको एक ऐसे फल के बारे में बताने जा रहे हैं जो सेहत के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है इस फल को प्राचीन काल से ही ऋषि मुनि जड़ी बूटी के तौर पर उपयोग करते आ रहे हैं जो सेहत के लिए फायदेमंद होता है।

Third party image reference
दोस्तों हम जिस फल की बात कर रहे हैं उसे गूलर का फल कहते हैं। गूलर का फल बहुत ही चमत्कारी माना जाता है। गूलर के फल में कई ऐसे पोषक तत्व पाए जाते हैं जो शरीर की सभी प्रकार की कमजोरी को दूर करने के लिए सहायक होते हैं। यह फल सड़क के किनारे और मंदिरों के आसपास आसानी से मिल जाता है। गूलर फल का पौधा दूध से भरा होता है इसलिए किसी भी जगह पौधा के कट जाने से उस जगह से दूध निकलता है। गूलर के फल को कच्चा और पक्का दोनों तरह से सेवन किया जाता है। कच्चे कूलर को सब्जी के रूप में उपयोग किया जाता है जबकि पका गूलर बिल्कुल गुलाब जामुन की तरह दिखाई देता है, जो सेहत के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है।

Third party image reference
वर्तमान समय में कई ऐसे लोग हैं जो शारीरिक कमजोरी और अनेक प्रकार की बीमारियों से परेशान हैं। इनमें से डायबिटीज और मधुमेह की बीमारी बहुत ही खतरनाक बीमारी मानी जाती है लेकिन इसका सही समय पर इलाज करने से यह बीमारी दूर है। मधुमेह की बीमारी के लिए गूलर के फल को पानी में मिलाकर सेवन करना चाहिए। अगर आप दांत दर्द से परेशान हैं तो आपके लिए गूलर का फल फायदेमंद हो सकता है। गूलर के फल को पीसकर इसे पानी में मिलाकर कुल्ला करने से दांत के सभी प्रकार के दर्द दूर हो जाते हैं।

Third party image reference
हमे उम्मीद है आप लोगों को जानकारी पसंद जरूर आयी होगी। दोस्तों के साथ जानकारी शेयर करे और हमे फॉलो करें।


सोर्स : अमर उजाला