Saturday 11 May 2019

जंगल में छुपा हुआ था मोस्ट वॉन्टेड अपराधी, महिला पुलिस अधिकारियों ने धर दबोचा



Third party image reference
गुजरात एंटी टेररिस्ट स्क्वॉड (एटीएस) की महिला अधिकारियों ने हाल ही में एक मोस्ट वॉन्टेड अपराधी को पकड़ा है जो कि कई समय से फरार था। बताया जा रहा है कि जुसब अल्लारखा नामक ये अपराधी जेल से पेरोल पर बाहर आया था और बाहर आते ही ये फरार हो गया था।

इस तरह से पकड़ा गया ये अपराधी

बताया जा रहा है कि जुसब अल्लारखा के बोटाद नामक जगह पर आने की जानकारी गुजरात पुलिस को मिली थी। जिसके बाद पुलिस सब इंस्पेक्टर संतोष ओडेडरा, सब इंस्पेक्टर अरुणा गामेती, नितमिका गोहिल और शकुंतला माल ने इस जानकारी के आधार पर इसे पकड़ने का एक प्लान तैयार किया। इस प्लान के तहत ये सभी महिला पुलिस अधिकारी जुसब अल्लारखा के आने से पहले ही बोटाद पहुंच गई थी और वहां पर इसके आने का इंतजार करने लगी। वहीं जैसे ही ये वहां पहुंचा इन महिला अधिकारियों ने बिना कोई देरी किए इसे पकड़ लिया।
जुसब अल्लारखा को पकड़ने के लिए इन महिला पुलिस अधिकारियों ने खूब सारी फायरिंग भी की। वहीं जुसब अल्लारखा की और से भी इन महिला पुलिस अधिकारियों पर फायरिंग की गई और फायरिंग करके ये भागने लगा। लेकिन जुसब अल्लारखा को इन अधिकारियों ने भागने नहीं दिया और इसे गिरफ्तार कर लिया। जुसब अल्लारखा को गिरफ्तार करने के बाद इसे गुजरात सीआईडी को सौप दिया गया है।

इस तरह से हुआ था पहले ये फरार


Third party image reference
जुसब अल्लारखा को पुलिस ने हत्या के एक मामले में पकड़ा था और इस अपराध के लिए ये जेल में सजा काट रहा था। वहीं कुछ समय पहले ये जेल से पेरोल के जरिए बाहर आ गया था और पेरोल खत्म होने पर ये वापस जेल नहीं गया और फरार हो गया। पेरोल से बाहर आने के बाद भी इसने अपराध करना नहीं छोड़ा और इसने एक और हत्या को अंजाम दिया। इतना ही नहीं ये लोगों से फ़िरौती भी मांगने लगा। पुलिस काफी समय से इसको पकड़ने में लगी हुई थी लेकिन हर बार ये भागने में कामयाब हो जाता था। पुलिस के अनुसार जुसब अल्लारखा ने जूनागढ़ और भावनगर में काफी वारदातों के अंजाम दिया है और जब भी पुलिस इसे पकड़े के लिए जाया करती थी तो ये जंगलों में छिप जाता था। पुलिस के मुताबिक इसने अपने पास एक घोड़ा भी रखा था और इस घोड़े की मदद से ये जंगलों में भाग जाता था।