Saturday 11 May 2019

3 ऐसे भारतीय क्रिकेटर जिन्हें शायद अगले आईपीएल में कोई भी टीम न खरीदे


आईपीएल क्रिकेट की ऐसी प्रतियोगिता है, जिसके जरिए हर साल कई युवा खिलाड़ी हमारे सामने अपनी प्रतिभा का जलवा दिखाते हैं। वहीं दुनिया की सभी क्रिकेट टीमों में शामिल दिग्गज विदेशी खिलाड़ी भी बेहतरीन खेल का प्रदर्शन करते हैं। इस टूर्नामेंट का क्रेज क्रिकेट फैन्स में खिलाड़ियों की नीलामी के समय से ही शुरू हो जाता है कि उनकी पसंदीदा फ्रेंचाइजी किन क्रिकेटरों को अपनी टीम में शामिल करेगी।
आईपीएल के 12 सालों के इतिहास को अगर हम उठाकर देखेंगे, तो उनमें केवल मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपरकिंग्स के ही खिलाड़ियों ने अपनी टीमों के साथ इंसाफ किया है। यह दोनों ही टीमें तीन-तीन बार इस खिताब को जीत चुकी हैं। जबकि एक दिन बाद आईपीएल के 12वें सीजन का फाइनल खेला जाना है, तो उसमें भी चेन्नई सुपर किंग्स और मुंबई इंडियंस की ही भिड़ंत होनी है। ऐसे में यह बात तो तय है कि इन दोनों टीमों में से कोई टीम चौथी बार इस खिताब को जीतेगी। जिसके बाद यह सीजन खत्म हो जाएगा।
इस सीजन में बेहतरीन खिलाड़ियों के साथ हमने कई ऐसे खिलाड़ियों को देखा, जिनका प्रदर्शन लगातार गिरता चला गया और अब तो यह संभावना भी लगाई जा रही है कि इन क्रिकेटरों को आईपीएल की अगली नीलामी में शायद ही कोई फ्रेंचाइजी खरीदे।
आज हम आपको ऐसे ही तीन भारतीय क्रिकेटरों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनको लेकर यह संभावना लगाई जा रही है कि शायद ही इन्हें अगले सीनज में कोई फ्रेंचाइजी खरीदन में दिलचस्पी दिखाए, जानिए कौन हैं वो तीन खिलाड़ी-
यूसुफ पठान
यूसुफ पठान को जिसके लिए जाना जाता है, वह उसे साबित करने में पूरी तरह से विफल रहे हैं। केकेआर की तरफ से खेलते हुए तो पूर्व में इस खिलाड़ी ने महत्वपूर्ण योगदान दिया है लेकिन हैदराबाद की ओर से पठान का प्रदर्शन फ्लॉप ही रहा है। यूसुफ पठान ने इस सीजन में हैदराबाद की ओर से 10 मैच खेले और उनमें उन्होंने 13.33 के औसत से मात्र 40 रनों का योगदान दिया। यही नहीं उन्होंने गेंदबाजी से भी ऐसा कोई कमाल करके नहीं दिखाया है, जिसके बल पर यह कहा जा सके कि उन्हें अगले सीजन में यह टीम रिटेन कर सकती है या फिर कोई अन्य फ्रेंचाइजी उनके प्रति अपना झुकाव दिखा सकती है। ऐसे में यह कहा जा सकता है कि 36 साल के इस क्रिकेटर का आईपीएल करियर भी खत्म होने की कगार पर है। 
युवराज सिंह
युवराज सिंह पर भी उनकी बढ़ती उम्र का असर दिखने लगा है, यही कारण है कि उनका प्रदर्शन लगातार गिरता जा रहा है। आईपीएल की शुरुआत में नीलामी के दौरान युवराज ने भी काफी सुर्खियां बटोरी थीं, क्योंकि मुंबई इंडियंस ने उन्हें उनके बेस प्राइज 1 करोड़ रुपए में खरीदा था। यही नहीं फैंस को भी उम्मीद थी कि शायद मुंबई के लिए खेलते समय युवराज शानदार वापसी करेंगे लेकिन ऐसा हुआ नहीं।
उन्होंने इस सीजन में केवल एक अर्धशतक बनाया लेकिन उनका स्ट्राइक रेट चिंता का विषय था। जिसके कारण कप्तान रोहित शर्मा ने उन्हें बाहर बैठाना ही उचित समझा। युवराज ने इस सीजन में मुंबई की ओर से 4 मैचों में मात्र 98 रन ही बनाए। ऐसे में अगर उन्हें आगे के मैचों में जगह दी जाती, तो शायद मुंबई फाइनल तक का अपना सफर भी न तय कर पाती। उनके प्रदर्शन को देखकर यह संभावना लगाई जा रही है कि 37 साल के इस क्रिकेटर को न तो मुंबई अगले सीजन में रिटेन करेगी और न ही कोई अन्य फ्रेंचाइजी उन्हें खरीदने में दिलचस्पी दिखाएगी। 
मुरली विजय
मुरली विजय की गिनती बेहतरीन ओपनिंग बल्लेबाजों में की जाती है। विजय कई मौकों पर भारतीय क्रिकेट टीम में भी अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा चुके हैं लेकिन शायद टी20 क्रिकेट के इस टूर्नामेंट में अब उनके दिन ज्यादा नहीं बचे हैं। आईपीएल के इतिहास में विजय ने कई बेहतरीन पारियां खेली हैं लेकिन पिछले सीजन और इस बार के सीजन में उनका प्रदर्शन निराशाजनक ही रहा है।
मुरली विजय के गिरते प्रदर्शन की वजह से उन्हें इस सीजन में केवल 2 ही मैच खेलने का मौका मिला, जिसमें उन्होंने 38 रन के सर्वोच्च स्कोर के साथ कुल 64 रन बनाए हैं। इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट भी 104.91 का रहा। हालांकि नीलामी के वक्त इन्हें चेन्नई की टीम ने 2 करोड़ रुपए में खरीदा था, क्योंकि विजय से काफी बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद की जा रही थी लेकिन 35 साल के हो चुके मुरली विजय का प्रदर्शन लगातार गिरता जा रहा है। ऐसे में अब यह कयास लगाए जा रहे हैं कि शायद इन्हें भी अगले सीजन में मुश्किल से ही कोई फ्रेंचाइजी खरीदे।